सहारनपुर में गुर्जर और राजपूत समाज में टकराव के बाद इंटरनेट सेवाएं बंद, 10 के खिलाफ केस दर्ज

0
220
Photo: IANS/सहारनपुर में गुर्जर और राजपूत समाज में टकराव के बाद इंटरनेट सेवाएं बंद, 10 के खिलाफ केस दर्ज
Photo: IANS/सहारनपुर में गुर्जर और राजपूत समाज में टकराव के बाद इंटरनेट सेवाएं बंद, 10 के खिलाफ केस दर्ज

सहारनपुर: उत्तर प्रदेश के सहारनपुर जिले में गुर्जर समाज लोगों ने 29 मई को सम्राट मिहिर भोज प्रतिहार गौरव यात्रा निकालने का एलान किया था। यह यात्रा फंदपुरी से नकुड़ तक करीब 10 किलोमीटर तक निकाली गई है। इस यात्रा में गुर्जर समाज करीब 30 हजार से अधिक लोग शामिल हुए।

गुर्जर समाज की गौरव यात्रा का राजपूत समाज के लोगों ने कड़ा विरोध किया। दोनों समाज में टकराव न हो, इसलिए जिला प्रशासन ने गुर्जर समाज की यात्रा की अनुमति को निरस्त कर दिया था। अगले आदेशों तक जिले में इंटरनेट सेवाओं को बंद कर दिया गया है।

गुर्जर समाज की गौरव यात्रा के बाद राजपूत समाज भी सड़कों पर उतर गया। घंटाघर, कलेक्ट्रेट और हकीकत नगर पर मानव श्रृंखला बनाकर सड़कों को जाम कर दिया। दो घंटे चले प्रदर्शन से लोगों को काफी परेशानी हुई। जिला राजपूत सभा के सदस्य धर्मवीर सिंह पुंडीर ने कहा, गुर्जर समाज ने बिना अनुमति के जो विवादित यात्रा निकाली है। राजपूत समाज के लोगों ने विरोध पत्र जिला प्रशासन को सौंपा है।

गुर्जर समाज द्वारा विवादित गौरव यात्रा निकाले जाने को लेकर राजपूत समाज ने कड़ा विरोध दर्ज किया है।

पुलिस अधीक्षक डॉ.विपिन ताडा ने कहा कि असमाजिक तत्वों को चिन्हित कर सख्त कार्रवाई की जाएगी। बेहट क्षेत्र में गुर्जर गौरव यात्रा को लेकर सोशल मीडिया पर भड़काऊ पोस्ट डालने के आरोप परवेज, हुसैन, चौधरी नईम, सैद, अंकुर, अंकित, नितिन, नईम, रामू के खिलाफ भड़काऊ व उत्तेजक पोस्ट डालकर जातिगत तनाव, घृणा फैलाने व वैमनस्य की भावना भड़काने के आरोप में मामला दर्ज किया है।

बिना अनुमति के निकाली यात्रा:

सम्राट मिहिर भोज प्रतिहार गौरव यात्रा को लेकर भले ही जिला प्रशासन सख्त हो लेकिन गुर्जर समाज के लोग सड़कों पर उतर गए हैं। माहौल बिगड़ने और शांति व्यवस्था बनाए रखने को जिला प्रशासन ने गौरव यात्रा निकालने की अनुमति को निरस्त कर दिया था। वहीं सोमवार को पुलिस के घेरे को गुर्जर समाज के लोगों ने तोड़कर गौरव यात्रा निकालनी शुरू कर दी। यह यात्रा फंदपुरी से नकुड़ तक करीब 10 किलोमीटर तक निकाली जा रही है। इसमें करीब 30 हजार से अधिक लोग शामिल हुए। वहीं इस दौरान बाजारों में सन्नाटा पसरा रहा और लोगों ने अपनी दुकानें बंद रखीं हैं।

सहारनपुर के जिलाधिकारी दिनेश चंद्र ने कहा कि जिले में जातिगत आधार पर कोई भी यात्रा नहीं निकलनी चाहिए। इसका कई लोगों ने समर्थन किया। इसके अलावा दूसरे समाज ने आपत्ति जताते हुए ज्ञापन दिया है। चूंकि प्रकरण बहुत संवेदनशील है। लेकिन अनुमति नहीं होने के बाद भी यात्रा निकाली गई है, जो विधि विरुद्ध है और इस पर पुलिस कार्रवाई कर रही है। अफवाह फैलाने की बात सामने आने पर अगले आदेशों तक के लिए इंटरनेट सेवाएं बंद कर दी गई हैं। समीक्षा करने के बाद आगे कोई निर्णय लिया जाएगा।

—आईएएनएस