देश की पहली मुस्लिम पायलट बनने वाली सानिया ने की मुख्यमंत्री से मुलाकात

0
172

लखनऊ: देश की पहली मुस्लिम पायलट बनने की राह पर चली सानिया मिर्जा से मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने मंगलवार को अपने आवास पर भेंट की। इस दौरान उनके माता-पिता और प्रदेश सरकार के अल्पसंख्यक मंत्री दानिश आजाद भी मौजूद रहे।

अल्पसंख्यक कल्याण राज्यमंत्री दानिश आजाद अंसारी ने बताया कि मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने सानिया मिर्जा को बधाई देते हुए उनके उज्जवल भविष्य की कामना की साथ ही उनके पिता शाहिद अली और माता तब्बसुम मिर्जा को भी बधाई दी और कहा कि आज हमारी बच्चियों को ऐसे ही कीर्तिमान रचने रहने की जरूरत है साथ ही सानिया मिर्जा कहां की यदि कभी भी सरकार से उन्हें कोई भी आवश्यकता हो निसंकोच कहें, सरकार युवाओं को शिक्षित और प्रोत्साहित करने के लिए सदैव तत्पर है।

उन्होंने सानिया को शुभकामनाएं देते हुए उनके उज्‍जवल भविष्य की कामना की। उनके पिता शाहिद अली और माता तब्बसुम मिर्जा को भी बधाई दी। कहा कि आज हमारी बच्चियों को ऐसे ही कीर्तिमान रचने रहने की जरूरत है। कहा कि यदि कभी भी सरकार से उन्हें कोई भी आवश्यकता हो निसंकोच कहें।

अल्पसंख्यक मंत्री दानिश आजाद ने कहा कि सानिया मिर्जा हमारे अल्पसंख्यक समाज की गौरव हैं और जिस तरीके से आज सार्थक दिशा में महिला सशक्तिकरण और शिक्षा के लिए योगी सरकार प्रयासरत है।

कहा कि खास तौर पर अल्पसंख्यक समाज के बच्चों के लिए योगी सरकार की नीतियों का ही यह फल है कि आज एक आम परिवार में जन्मी सानिया मिर्जा जिनके पिता शाहिद अली टीवी मैकेनिक हैं उन्होंने पूरे उत्तर प्रदेश का गौरव बढ़ाया है। सानिया मिर्जा 5 दिनों के सबसे कठिन माने जाने वाली एसएसबी इंटरव्यू में सफलता अर्जित की। इनकी शुरूआती पढ़ाई हिंदी मीडियम यूपी बोर्ड से हुई है, मिजार्पुर की रहने वाली सानिया मिर्जा ने क्लास ट्वेल्थ टॉप किया था।

अल्पसंख्यक कल्याण राज्यमंत्री दानिश आजाद अंसारी ने बताया कि सानिया मिर्जा अल्पसंख्यक समाज की गौरव हैं। महिला सशक्तिकरण और शिक्षा के लिए योगी सरकार पूरी तरह से प्रयासरत है। खास तौर पर अल्पसंख्यक समाज के बच्चों के लिए योगी सरकार की नीतियों का ही यह फल है कि आज एक आम परिवार में जन्मी सानिया मिर्जा ने यह सफलता हासिल की है।

गौरतलब है कि सानिया मिर्जा ने एनडीए की परीक्षा पास कर 149वीं रैंक हासिल की थी और भारतीय वायुसेना में फाइटर पायलट बनने के लिए चुनी गईं। वह भारतीय वायुसेना में शामिल होने वाली देश की पहली मुस्लिम महिला अधिकारी और लड़ाकू पायलट के रूप में शामिल होने वाली राज्य की पहली महिला अधिकारी बन गई हैं। मिजार्पुर के जसोवर गांव की रहने वाली सानिया मिर्जा अपने माता-पिता के साथ-साथ गांव वालों को भी गौरवान्वित महसूस कराती हैं। उसके पिता मिजार्पुर में टीवी मैकेनिक का काम करते हैं।

सानिया के पिता शाहिद अली ने कहा कि एक टीवी मैकेनिक सामान्य जीवन जीता है। बेटी के अंदर प्रतिस्पर्धा और लगन को देखा तो लक्ष्य हासिल करने में उसकी मदद करने लगा। हाईस्कूल में टॉप किया तो लगा कि बिटिया कुछ करना चाहती है। जिला टॉप करने के बाद एनडीए में जाने की इच्छा जताई। बिटिया ने मुझसे कहा कि वह एनडीए के रास्ते देश सेवा के लिए जाना चाहती है तो हमने भी उसका पूरा साथ दिया। मुझे बहुत खुशी है मेरी बेटी ने पूरे जिले में नाम किया है वो फाइटर पायलट के रूप में सेलेक्ट हुई है।

—आईएएनएस

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here