बेटियां सड़कों पर बैठी हैं, कोई नहीं ले रहा है सुध: विनेश फोगाट

0
183
Photo: @SakshiMalik/twitter
Photo: @SakshiMalik/twitter

जींद: महिला पहलवान विनेश फोगाट ने गुरुवार को कहा कि जब वह मेडल लेकर आई थीं तो लगा था कि यहां बेटियों की बहुत इज्जत होती है, लेकिन अब यह हाल है कि वे सड़कों पर बैठी हैं और कोई सुध नहीं ले रहा है। विनेश यहां जींद-नरवाना नेशनल हाईवे के खटकड़ टोल प्लाजा पर किसान पंचायत में आई हुई थीं। पंचायत में विनेश के अलावा बजरंग पूनिया, अन्य पहलवान, पूर्व राज्यपाल सत्यपाल मलिक आदि वहां मौजूद थे।

अमृत विचार की खबर के अनुसार, विनेश ने आरोप लगाया कि महिला खिलाड़ी अपने साथ हो रहे शोषण के कारण पिछले 12 साल से तिल-तिल मर रही थीं। उन्होंने आरोप लगाया कि दरिंदा उनको नोंच-नोंच कर खा रहा था और वह अपने घर वालों को भी नहीं बता पा रही थी।

पानी सर से गुजरने के कारण ही अब अपनी जान हथेली पर रखकर इस शोषण और अन्याय के खिलाफ उन सबको सड़क पर बैठना पड़ा है। उन्होंने आरोप लगाया कि सत्ताधारी दल का बाहुबली सांसद होने के कारण ही बृजभूषण शरण सिंह को खुली छूट दी जा रही है।

आरोपी खुलेआम मीडिया में इंटरव्यू दे रहा है और देश की बेटियों पर लांछन लगा रहा है। उन्होंने कहा कि ऐसा लगता है सरकार की शह और संरक्षण के कारण ही आरोपी बीजेपी सांसद खिलाड़ियों के खिलाफ अनाप-शनाप बयान दे रहा है। उन्होंने देश की हर महिला से अपील की कि वे 9053903100 नंबर पर मिस्ड कॉल देकर इस लड़ाई में अपनी आवाज उठायें।

पिछले एक महीने से दिल्ली के जंतर-मंतर पर बैठी पहलवान खिलाड़ियों ने 28 मई को नयी संसद इमारत के सामने महिला महापंचायत बुलाई है। इस अवसर पर पूर्व राज्यपाल मलिक ने आरोप लगाया कि केंद्र सरकार घमंड में चूर है, इसीलिए उसे सड़कों पर इंसाफ मांग रही देश की बेटियाँ दिखाई नहीं दे रही।

पहलवान बजरंग पूनिया ने कहा कि यह लड़ाई हम जरूर जीतेंगे। बजरंग ने कहा कि 28 मई को संसद के सामने होने वाली महापंचायत में ज्यादा से ज्यादा संख्या में मातृशक्ति और युवा पहुंचें। पूरी शांति और अनुशासन के दायरे में आएं।