राजस्थान कंकाल कांड: ग्रामीणों का अंतिम संस्कार से इनकार, प्रत्येक परिजन के लिए 51 लाख रुपये की मांग

0
206

जयपुर: हरियाणा के रेवाड़ी जिले में शुक्रवार को दो स्थानीय लोगों के जले हुए शव मिलने के मद्देनजर राजस्थान के भरतपुर में सामुदायिक पंचायत आयोजित की गई, जहां मृतकों के परिवारों ने 51 लाख रुपये का मुआवजा और सरकारी नौकरी देने की मांग की और मांग पूरी न होने तक अंतिम संस्कार करने से इनकार कर दिया।

बैठक के लिए भरतपुर के आसपास के गांवों के कई लोग घाटिका गांव पहुंचे, जहां राजस्थान की मंत्री जाहिदा खान भी मौजूद थीं। मुख्यमंत्री अशोक गहलोत ने 35 वर्षीय जुनैद और 28 वर्षीय नासिर की हत्या की निंदा करते हुए कहा कि मामले में एक आरोपी को हिरासत में लिया गया है और बाकी आरोपियों की तलाश की जा रही है।

उन्होंने कहा- हरियाणा में भरतपुर के घाटमिका के दो निवासियों की हत्या निंदनीय है। राजस्थान और हरियाणा पुलिस समन्वय में कार्रवाई कर रही है। एक आरोपी को हिरासत में लिया गया है और शेष आरोपियों की तलाश जारी है। राजस्थान पुलिस को सख्त कार्रवाई करने का निर्देश दिया गया है।

पहले परिवार 20 लाख रुपये के मुआवजे पर राजी हो गया था, लेकिन फिर मंत्री के लौटते ही अंतिम संस्कार करने से इनकार कर दिया। परिजनों ने कहा कि 20 लाख रुपये की राशि बहुत कम है। समुदाय के लोगों ने तीन घंटे तक बैठक की। इस बीच, मंत्री ने यह भी दावा किया कि पुलिस ने एक आरोपी को गिरफ्तार कर लिया है, भरतपुर में गोपालगढ़ पुलिस ने गिरफ्तार आरोपी की पहचान रिंकू सैनी के रूप में की है।

घाटमिका गांव हरियाणा सीमा के पास है, जुनैद के चचेरे भाई इस्माइल ने बुधवार को भरतपुर के गोपालगढ़ थाने में दोनों के अपहरण और मारपीट का मामला दर्ज कराया था। जिसमें अब हत्या का आरोप जुड़ गया है। जुनैद और नासिर दोनों के शव गुरुवार रात घाटमिका गांव पहुंचे, जिसके बाद गांव में कोहराम मच गया। गांव में तनाव का माहौल है और तीन थानों की पुलिस को अलर्ट कर दिया गया है।

परिजनों का आरोप है कि बुधवार की सुबह उनकी एसयूवी को गो-तस्करी के शक में रोका गया, फिरोजपुर-झिरका की क्राइम इन्वेस्टिगेशन एजेंसी (सीआईए) की टीम वहां मौजूद थी। दोनों युवकों को पहले जमकर पीटा और अधमरी हालत में बजरंग दल की टीम को सौंप कर थाने ले गए। लेकिन पुलिस ने उनकी हालत देखकर उन्हें हिरासत में लेने से मना कर दिया।

इसके बाद दोनों को बोलेरो सहित जिंदा जला दिया गया और दोनों के शव बुधवार की रात भिवानी के लोहारू गांव के पास मिले। वहीं, यह भी दावा किया जा रहा है कि जुनैद और नासिर को बुधवार सुबह भरतपुर के पिरूका गांव से बजरंग दल के कुछ सदस्यों ने हरियाणा में जिंदा जलाने से पहले पीटा और एसयूवी समेत अगवा कर लिया। हालांकि पुलिस ने इस आरोप को झूठा बताया है।

—आईएएनएस