बिहार के नालंदा, सासाराम में हिंसा के बाद स्थिति में सुधार, अफवाह पर ध्यान नहीं देने की अपील

0
128
Photo: Social Media

पटना: रामनवमी पर्व के दौरान बिहार के नालंदा और सासाराम में भड़की हिंसा के बाद स्थिति अब धीरे धीरे सामान्य हो रही है। हालांकि दोनों जिलों में अभी भी इंटरनेट सेवाएं बंद रखी गई हैं।

नालंदा जिला प्रशासन ने सोमवार को दावा किया कि सोमवार को कहीं से किसी अप्रिय घटना की सूचना नहीं है। स्थिति पूरी तरह नियंत्रण में है तथा धीरे-धीरे सामान्य हो रही है।

इस बीच, कहा गया है कि धारा 144 के प्रभावी प्रावधानों के अनुपालन के साथ दुकान एवं व्यवसायिक प्रतिष्ठानों को खोलने पर रोक नहीं है। हालांकि अपराह्न् 4 बजे से धारा 144 का सख्ती से अनुपालन कराया जाएगा।

नालंदा के जिलाधिकारी शशांक शुभंकर ने बताया कि विभिन्न स्थलों पर 104 स्टैटिक दंडाधिकारी प्रतिनियुक्त किये गए हैं। जिला बल के अतिरिक्त अर्धसैनिक बलों की 9 कंपनी शहर में तैनात की गई है। साथ ही अन्य जिलों से भी 1000 से अधिक पुलिस बल शहर में तैनात किए गए हैं।

इस मामले में अब तक 15 से अधिक प्राथमिकी दर्ज की गई है तथा साक्ष्यों के आधार पर अबतक 130 से अधिक उपद्रवियों को गिरफ्तार किया गया है।अन्य उपद्रवी तत्वों को पहचान के आधार पर गिरफ्तारी के लिए लगातार कार्रवाई की जा रही है।

इधर, सासाराम की स्थिति में भी सुधार होने का दावा किया गया है। पुलिस के एक अधिकारी ने बताया कि राम नवमी के बाद हुई हिंसा को रोहतास पुलिस के द्वारा नियंत्रित किया गया है। रोहतास पुलिस के द्वारा 3 प्राथमिकी दर्ज की गई है एवं अब तक 43 लोगों की गिरफ्तारी हो चुकी है। रोहतास पुलिस के द्वारा लगातार सोशल नेटवकिर्ंग साइट पर नजर रखी जा रही है।

रोहतास पुलिस द्वारा अलग-अलग टीमों का गठन किया गया है एवं सीसीटीवी फुटेज से उपद्रवियों की पहचान कर गिरफ्तारी की कार्रवाई की जा रही है। इस आलोक में स्थानीय सूत्रों से भी सहयोग ली जा रही है।

जिला प्रशासन ने लोगों से अफवाह से बचने की अपील की है।

उल्लेखनीय है कि रामनवमी के जुलूस के बाद राज्य के नालंदा और रोहतास जिला मुख्यालय सासाराम में हिंसक झड़प हो गई थी।

—आईएएनएस