पेशाब कांड के बाद सख्ती, चलती ट्रेन में अब टीटीई का भी होगा ब्रेथ एनलाइजर टेस्ट

0
134

नई दिल्ली: चलती ट्रेन में अब टिकट चेकिंग स्टाफ का भी ब्रेथ एनलाइजर टेस्ट (Breath analyser test) कराया जायेगा और नशे में पाए जाने पर उनके खिलाफ सख्त कार्रवाई होगी।

जानकारी के अनुसार, फिलहाल इसकी शुरूआत कुछ चुनिंदा रेलवे स्टेशन से की जायेगी। जैसे ग्वालियर, प्रयागराज, कानपुर सेंट्रल से ही जो चेकिंग स्टाफ ट्रेनों में चढ़ता है। इस वजह से आस पास के कई स्टेशन पर ड्यूटी साइन इन करने के पूर्व ही चेकिंग स्टाफ का ब्रेथ एनालाइजर टेस्ट करवाया जाएगा।

रॉयल बुलेटिन की खबर के अनुसार, इसके साथ ही चलती ट्रेन में भी चेकिंग स्टाफ के साथ लोको पायलट, ट्रेन मैनेजर एवं अन्य कर्मचारियों को भी अचानक ब्रेथ एनालाइजर टेस्ट कराया जाएगा। इन स्टेशनों से गुजरने वाली वीरांगना लक्ष्मी बाई झांसी, आगरा कैंट, मथुरा, ग्वालियर में भी चेकिंग स्टाफ की अचानक जांच करवाई जाएगी।

दरअसल पिछले सप्ताह अमृतसर से लखनऊ होकर कोलकाता जा रही अकाल तख्त एक्सप्रेस में टीटीई द्वारा महिला के सिर पर पेशाब कर दिया था। टीटीई उस समय शराब के नशे में था और छुट्टी पर चल रहा था। घटना पर संज्ञान लेते हुए बाद में रेल मंत्री अश्वनी वैष्णव के निर्देश पर टीटीई मुन्ना कुमार को बर्खास्त भी कर दिया है।

इसके अलावा एक अन्य घटना में बेंगलुरु रेलवे स्टेशन पर भी शराब पीकर टिकट चेकर के महिला यात्री से बदसलूकी करने का मामला भी सामने आया था। रेलवे की ओर से ऐसी शर्मनाक घटनाएं दोबारा न हों इसके लिए चलती ट्रेन में एवं ड्यूटी शुरू करने के पूर्व चेकिंग स्टाफ की ब्रेथ एनालाइजर से चेकिंग की भी व्यवस्था शुरू की जा रही है। ब्रेथ एनालाइजर से रेलकर्मियों की अचानक चेकिंग होगी। नशे में पाए जाने पर उनके खिलाफ सख्त कार्रवाई भी की जाएगी।

इसके साथ ही यात्रियों से अच्छा व्यवहार और रेलवे स्टाफ को यात्री फ्रेंडली बनाने के लिए कर्मचारियों को ट्रेनिंग देने की भी व्यवस्था की गई है। अफसरों से लेकर चेकिंग स्टाफ, गार्ड, लोको पायलट, स्टेशन स्टाफ, बुकिंग क्लर्क समेत रेलवे के फ्रंटलाइन स्टाफ की ट्रेनिंग में सबको यात्रियों से अच्छा व्यवहार का पाठ पढ़ाया जाएगा।